Skip to main content

Personality tricks in hindi 2018

व्यक्ती-महत्व विकास  Personalty Tricks

          पर्सनालिटी अगर अच्छी हो तो सभी लोग आपकी तारीफ करते है सराहते है। पर्सनालिटी डेवलपमेंट का मुख्य मकसद ही आपको दूसरों की नज़रों में लाना है। खुद को सही रीति से पेश करना पर्सनालिटी डेवलपमेंट का एक हिस्सा है। जिसमे सेल्फ कॉन्फिडेंस का बहुत बड़ा हाँथ होता है। इसके अलावा भी कई ऐसी बातें है जो पर्सनालिटी डेवलपमेंट के लिए जरुरी है जो इस प्रकार है।

अच्छे कपड़ो का चयन

      अक्सर होता यूँ है की जब आप किसी कंपनी में होते है तो उस कंपनी का अपना ड्रेस कोड होता है। कुछ लोग फोर्मल्स पर ज्यादा जोर देते है और कुछ इंडस्ट्री कज्युएल पर जोर देती है। जब भी आप किसी कंपनी के साथ जुड़ते है तो आपको वहां के नियम अनुसार कपड़ों का चयन करना होता है। साथ ही कलर कॉम्बिनेशन, टाई, बेल्ट, शूज़, नैपकिन (रुमाल) आदि का चयन शामिल होता है।
Personality tricks

चलने का तरीका

     जब भी आप ऑफिस या किसी होटल या रोड पर चलते है तो आपको आपनी चल पर विशेष ध्यान देना होता है। चलते वक़्त तेज़ चलना, सीधा देखना और लोगों को ग्रीट करना अच्छा आचरण मन जाता है। कई लोग चलते चलते पीछे बात करते है और किसी से टकरा जाते है, साथ ही चलते चलते लोगों को क्रॉस करते है। यह सभी बातें आपके आचरण को गलत साबित करती है। इसलिए जब भी आपको चलते वक़्त कॉंफिडेंट, सीधा देखना और लोगों को चलते वक़्त सम्मान देना अच्छा होता है।

हाव- भाव

     जब भी आप ऑफिस या पर्सनल जिंदगी में किसी से मिलते है तो आपके हाव- भाव सही रहना जरुरी है। ख़ास तौर पर यह बात उन लोगों पर साबित होती है जिनके नीचे कई लोग काम करते है, क्यूंकि आपने जूनियर्स से काम करवाने के लिए आपने हाव भाव का सही होना जरुरी है क्यूंकि लोग आपका काम तो कर देते है लेकिन वो काम उपरी मन से करते है इसलिए आपका हव भाव इस तरह होना चाहिये की लोग आपको अपना मान कर काम कर सकें।

मोटिवेशनल स्पीच

     जब भी मोटिवेशन की बात आई है, तो हम जिस तरह से भी मोटीवेट हो सकते है उस बात पर अनुसरण करना चाहिये। जैसे अपनी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ में जो भी आपके हीरो है और ख़ास तौर से वो जो लोगो को इंस्पायर करते है उन्हें सुनना चाहिये। इससे आपको आपके कार्य करने में मदद मिल सकेगी।

कॉम्पलिमेंट-प्रशंसा करना(Compliment)

     जब भी आप किसी में भी कोई भी बात अच्छी देखे तो उनकी प्रशंसा करें। आम तौर पर होता यह है की जब कोई काम अच्छा हो जाता है तो कई लोग उसका क्षेय खुद पर और जब कोई काम गलत होता है तो वो काम की जिम्मेदारी वर्कर्स पर डाल देते है। साथ ही कॉम्पलिमेंट का मतलब यह भी होता है की जब आप आने कार्य करने वालों के साथ रहते है तो आप एक दुसरे कि अच्छी बातों की तारीफ करें। यह बिज़नस बढ़ने का एक अच्छा तरीका है।

सामने बैठे

  अक्सर हम देखते है की ऑफिस में या कॉलेज में कोई मीटिंग के दौरान कुछ लोग पीछे बैठना पसंद करते है। इसके पीछे कोई भी कारन हो सकता है। लेकिन हमे कोशिश यह करनी चाहिये की हम आगे बैठे और जो भी लो कह रहे है उसे ध्यान से सुने और आपने कार्यों में अमल करें। इससे आपका और आपके सीनियर के बीच कम्युनिकेशन का बांड स्थापित हो जाता है।

स्पीक अप (बोलना)

   कई लोग कितनी भी बुरी परिस्तिथि क्यूँ न आ जाये लेकिन कुछ बोलते नहीं है। इसा सीधा सीधा कारन डर होता है। लेकिन जब भी आप किसी ऑफिस में काम करते है या घर या स्कूल में पढाई करते है यह आपका आधिकार होता है की आप उन सब बारे में जाने जो आपके पढाई या कार्य से सम्बंधित है। यह आपका अधिकार है, इससे आपको आपके कार्य में गति मिलती है।

कॉन्ट्रिब्यूशन (योगदान) पर जोर(Contribution)

      अगर आप किसी कंपनी या स्कूल में हो तो आपको ग्रुप्स में काम करने का अनुभव दिया जाता है। यह अनुभव इसलिए दिया जाता है ताकि आप आपने कार्य क्षेत्र में सफलता हासिल कर सकें। आपको एक दुसरे के लिए योगदान देना होता है, कोई लिखता है, तो कोई उसे जांचता है, तो कोई उसे एडिट कर फाइनल कॉपी बनता है। यह एक ग्रुप वर्क है जो हर कॉर्पोरेट में चलाया जाता है।

Comments

Popular posts from this blog

How to speak in English in Hindi | Motivational Tips

How to speak in English in Hindi अंग्रेजी बोलने से सम्बंधित कुछ टिप्स     English बोलने के लिए grammar अच्छे से आना चाहिए : यह एक बहुत बड़ा myth है , आप यह सोचिये कि जब आपने हिंदी बोलना सीखा तो क्या आपको संज्ञा , सर्वनाम इ. के बारे में पता था ? नहीं पता था , क्योंकि उसकी जरूरत ही पड़ी नहीं वो तो बस आपने दूसरों को देखकर -सुनकर सीख लिया . उसी तरह अंग्रेजी बोलने के लिए भी Grammar की knowledge जरूरी नहीं होता . English Medium school से अच्छी शिक्षा मिलने के वजह मैं अच्छी English बोल लेता हूँ , पर यदि आप मेरा Tenses का test लें तो मेरा पास होना भी मुश्किल होगा .   कुछ ही दिनों में English बोलना सीखा जा सकता है : गलत ! अपनी मातृ भाषा से अलग कोई भी भाषा सीखने में समय लगता है . कितना समय लगेगा यह person to person अलग रहेगा . पर मेरा मानना है कि यदि कोई पहले से थोड़ी बहुत इंग्लिश बोलना जानता है और वो dedicated होकर effort करे तो 6 महीने में अच्छी अंग्रेजी बोलना सीख सकता है .और यदि आप सीख ही रहे हैं तो Workable मत सीखिए , अच्छी English सीखिए.      English Medium से पढने वाले ही अच्छी अंग्रेजी बोल …

Why time is so important in our life in hindi

Why time is so important in our life समय, सफलता की कुंजी है। समय का चक्र अपनी गति से चलता रहता है या यूं कहें कि भाग रहा है। अक्सर इधर-उधर कहीं न कहीं, किसी न किसी से ये सुनने को मिलता रहता है कि क्या करें समय ही नही मिलता। वास्तव में हम निरंतर गतिमान समय के साथ कदम से कदम मिला कर चल ही नही पाते और पिछङ जाते हैं। समय जैसी मूल्यवान संपदा का भंडार होते हुए भी हम सभ हमेशा उसकी कमी का रोना रोते रहते हैं क्योंकि हम इस अमूल्य समय को बिना सोचे समझे खर्च कर देते हैं। विकास की राह में समय की बरबादी ही सबसे बङा शत्रु है।जो समय को काबु मै रखता है वही success पा सकता हे। एक बार हाँथ से निकला हुआ समय कभी वापस नही आ सकता । हमारा बहुमूल्य वर्तमान क्रमशः भूतकाल बन जाता है जो कभी वापस नही आता। सत्य कहावत है कि बीता हुआ समय और बोले हुए शब्द कभी वापस नही ले सकेंगे।

कबीर दास जी ने कहा है कि, कल करे सो आज कर,आज करै सो अब अभी नही तो कभी नही।।
पल में परलै होयेगी, बहुरी करेगा कब।। सच ही तो है मित्रों, किसी भी काम को कल पर नही टालना चाहिए क्योंकि आज का कल पर और कल का काम परसों पर टालने से काम अधिक हो जायेगा। समय …

Tension free life in hindi

Tension Free life in hindi




1) अपने टेंशन का कारण आपने करीबी से share करें :
किसी ऐसे से जो आपके साथ सहानुभुती कर सके , मैंने अपना concern अपनी wife से share किया, या ये कहें कि वो खुद ही ये समझ गयीं , आप भी अपने life partner, parents या किसी friend से अपनी बात कहिए. बस इतना ध्यान रखिये की वह व्यक्ति आजमाया और परखा गयाहो , जिसपर आप आँख मूँद कर भरोसा कर सकते हों . जब आप ऐसा करेंगे तो आपका मन free होगा और चूँकि सामने वाला आपके लिए उतना ही concerned है तो वो भी आपको tension relieve करने में कुछ help कर सकता है , और आप मानसिक रुप better feel करेंगे की अब आप अकेले नहीं है , कोई है जो आपकी problem को समझता है .


2) ऐसे लोगों से बात करें जिससे बात करने में आपको खुशी मिलती हो … मजा आता हो:
हमारी life में कई लोग होते हैं जिनसे हमारे बहुत अच्छे रिश्ते होते हैं और हम उन्हें बहुत मानते हैं . लेकिन मैं जिन लोगो से बात करने की बात कर रह हू वो भले ही आपके favourite list मे आते हों या नही पर आपको उनसे बात करने मे मजा आता हो , जिनके साथ आप खिलखिला कर हँस सकते हों . किस्मत सेमेरे पास ऐसे कई friends हैं… मैंन…